Posts

कोरोना से बरखा दत्त के पिता का नि'- धन, बोलीं- मैं फेल हो गई

Image
पत्रकार बरखा दत्त के पिता एसपी दत्त की कोरोना से मौ*- त हो गई। मंगलवार को बरखा दत्त ने ट्वीट करके यह जानकारी दी। वह एयर इंडिया के अधिकारी रह चुके थे। बरखा दत्त ने ट्वीट करके कहा कि मैंने वादा किया था कि उन्हें दो दिन में घर ले आऊंगी लेकिन मैं अपना वादा नहीं निभा पाई। मैं नाकाम रही। बरखा दत्त ने परिवार के साथ एक तस्वीर भी पोस्ट की। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, ‘सबसे दयालु और प्यारे इंसान मेरे पिता आज सुबह कोरोना की जं'- ग हार गए और उनका नि'- धन हो गया। जब मैं उनकी इच्छा के खिलाफ उन्हें अस्पताल ले जा रही थी तो वादा किया था कि दो दिन में घर वापस ले आऊंगी लेकिन मैं अपना वादा पूरा नहीं कर पाई। मैं विफल हो गई। उन्होंने हमसे किया गया कोई वादा कभी नहीं तो'- ड़ा।’ उन्होंने लिखा, ‘मेरे पिता के आखिरी शब्द थे, मैं सां'- स नहीं ले पा रहा हूं, मेरा इलाज करवाओ।’ मैं मेदांता के सभी डॉक्टरों, नर्सों, वॉर्ड स्टाफ, सिक्योरिटी गार्ड और ऐंबुलेंस ड्राइवर का धन्यवाद देती हूं जिन्होंने बहुत मेहनत की। उन्हें अविष्कार बहुत पसंद था। वह अपने ग्रैंडचिल्ड्रन के लिए ट्रेन बनाते थे, हवाई जहाज बनाते थे।

PM तो इ'- स्तीफा देंगे नहीं इसलिए वे अपने स्वास्थ्य मंत्री को हटा दें, अभी भी लाखों की जान ब'- च सकती है : रवीश कुमार

Image
यह संकट अब भी सँभाला जा सकता है अगर स्वास्थ्य मंत्री को ह'- टा दिया जाए क्यों और कैसे ? ऐसे भी डॉ हर्षवर्धन का काम प्रधानमंत्री का ट्वीट री ट्वीट करना है और उनको दिन भर योद्धा बताने का ट्वीट करना है। यह काम डॉ हर्षवर्धन घर बैठ कर भी कर सकते हैं। इसके लिए स्वास्थ्य मंत्री होना ज़रूरी नहीं है। एक डॉ स्वास्थ्य मंत्री को क्या करना चाहिए? उसके पास कई दर्जन डाक्टरों की एक टीम होनी चाहिए जो कोविड के मरीज़ों का इलाज कर रहे सभी डाक्टरों के प्रेस्किप्शन का अध्ययन करती रहे। बेशक लाखों प्रेसक्रिप्शन का अध्ययन संभव नहीं है लेकिन कई सौ प्रेसक्रिप्शन का अध्ययन हर दिन किया जा सकता है। इससे टीम को पता चलेगा कि छपरा से लेकर दिल्ली तक के तमाम डाक्टर किस तरह इलाज कर रहे हैं। किस स्टेज पर कौन सी दवा दे रहे हैं और कौन सी दवा नहीं दे रहे हैं। इसकी वजह से किस तरह के मरीज़ को अस्पताल जाना पड़ा और अगर दवा दी जाती तो अस्पताल नहीं जाना पड़ता। हमें इस वक़्त यह जानना ही होगा कि क्यों इतने मरीज़ अस्पताल जा रहे हैं? उनके डाक्टर ने सही दवा नहीं दी या दी तो देर से दी? क्या कोई ऐसी देरी हो रही है जिसकी वजह से मरीज़

ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर ने IPL छोड़ा, लिखा-लोग म'- र रहे हैं, यहां पैसा पानी की तरह बहाया जा रहा है

Image
बीते साल कोरोना की पहली लहर आने पर मोदी सरकार ने पूरे देश में लॉ'- कडाउन किया। तो उस दौरान आईपीएल का आयोजन देश में नहीं हो पाया था। इस बार कोरोना की दूसरी लहर, पहले से भी ज्यादा ख'- तरनाक है। लेकिन देश में आईपीएल मैच खेले जा रहे हैं। जिसके लिए मोदी सरकार की दुनियाभर में खि'- ल्ली उड़ रही है।अब खबर सामने आ रही है कि आईपीएल फ्रेंचाइजी में फिल्म अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी की टीम राजस्थान रॉयल्स के खिलाड़ी एंड्रयू टॉय ने टीम छोड़कर ऑस्ट्रेलिया की वापसी कर ली है। एंड्रयू टॉय राजस्थान रॉयल्स टीम के तेज गेंदबाज के तौर पर जाने जाते हैं। आईपीएल छोड़ कर ऑस्ट्रेलिया वापिस जाने वाले एंड्रयू टॉय ने इस मामले में हैरानी जाहिर करते हुए कहा है कि एक तरफ भारत में मरीज अस्पतालों में सुविधाओं के अभाव में दम तो'- ड़ रहे हैं। वहीँ दूसरी तरफ आईपीएल की फ्रेंचाइजियां पानी की तरह पैसा बहा रही है। इसके साथ ही एंड्रयू टॉय ने यह भी कहा है कि भले ही एक खिलाड़ी के रूप में हम पूरी तरह से सुरक्षित हैं। लेकिन क्या वे आगे भी सुरक्षित रहने वाले है। स्वास्थ्य अव्यवस्था और असुविधाएं की वजह से अस्पतालों में भर्त

बीमार बेटे के लिए मां ने मांगी मदद तो बोले BJP मंत्री- बालाजी को नारियल चढ़ाओ, सब ठीक हो जाएगा

Image
कांग्रेस शासित राजस्थान में भी कोरोना सं'- क्रमण से बढ़ रहे मामलों के चलते स्थिति ‘आउट ऑफ़ कं'- ट्रोल’ हो रही है। जिसके चलते राजस्थान सरकार द्वारा राज्य में कई पा'बंदियां भी लगा दी गई है। बीते 7 दिनों के अंदर राज्य में कोरोना के लगभग एक लाख मामले सामने आए हैं। राज्य में बिगड़ रहे हालात को देखते हुए गहलोत सरकार ने प्रदेश में 2 जिलों के बीच आवाजाही पर भी सख्त नियम बना दिए हैं। इस वक्त राज्य में कोरोना के लगभग 1.36 लाख से ज्यादा एक्टिव मामले हैं। बताया जाता है कि राजस्थान की जोधपुर में कोरोना काफी बे'- काबू हो रहा है। हर दिन संख्या नए रिकॉर्ड बना रही है। ऐसे में केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत कोरोना से बिगड़ रहे हालात पर चर्चा करने और स्वास्थ्य व्यवस्थाओं का जायजा लेने के लिए जोधपुर एम्स पहुंचे थे। इसके बाद वह एमडीएस अस्पताल भी गए। इस कड़ी में न्यूज़ चैनल News 24 ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर एक वीडियो शेयर की है। जिसमें केंद्रीय मंत्री और जोधपुर से सांसद गजेंद्र सिंह शेखावत अ'- जीबोगरीब दावा कर अपने बेटे के लिए रो रही महिला को दि'- लासा दे रहे हैं। वीडियो में

अनुपम खेर बोले- ‘आएगा तो मोदी ही’, RLD नेता बोले- किसी अस्पताल के सामने बोलकर दिखा दो, पता लग जाएगा

Image
देश बुरे दौर से गुजर रहा है। एक तो कोरोना की म'- हामारी और दूसरी ओर सरकारी ला'- परवाही। जब कोरोना से लड़ने का वक्त था तब सरकार चुनाव प्रचार में व्यस्त थी। आज जब चारों ओर हाहाकार है, मौत है, मातम है, चीख-चित्कार है तो वैसे माहौल में भी कुछ लोग ऐसे हैं जो कह रहे हैं कि कितना भी चिल्ला लो, आएगा तो मोदी ही। ये रिमाइंडर है 2 साल पहले पॉपुलर हुए ना'- रे का, जब लोकसभा चुनाव में भाजपा समर्थक कहते फिरते आएगा तो मोदी ही। क्या सचमुच देश ऐसी स्थिति में आकर खड़ा हो गया है कि सब कुछ ब'- र्बाद हो जाए, भ'- स्म हो जाए लेकिन आएगा तो मोदी ही| कोरोना से होने वाली मौ*- तों के इस विकट दौर में इस नारेबाजी की शुरुआत की पीएम मोदी के चाटुकार के तौर पर अपनी पहचान रखने वाले सिने अभिनेता अनुपम खेर ने। दरअसल एक व्यक्ति ने लिखा था कि कोरेाना में ऑक्सीजन की कमी हो रही है। अस्पतालों में बेड नहीं मिल रहा है। इस पर रिप्लाई करते हुए अनुपम ने कहा कि घबराइए मत, आएगा तो मोदी ही| इस पर पूर्व पत्रकार और वर्तमान RLD नेता प्रशांत कनौजिया ने ट्वीट किया “आएगा तो मोदी ही, ये नारा एक बार अस्पतालों के बाहर खड़े परिज

ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर ने ऑक्सीजन के लिए दिए 50 हजार डॉलर, पत्रकार बोले- अपने खिलाड़ियों की आ'- त्मा कब जागेगी?

Image
ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज पैट कमिंस ने आज कोविड के खिलाफ संघर्ष में पीएम केयर्स फंड में 50 हजार डॉलर दान किया। पैट कमिंस ने पीएम केयर्स फंड ने यह दान ऑक्सीजन की आ'- पूर्ति के लिए किया है। ऐसे वक्त में जब ऑक्सीजन और अस्पताल की कमी से जूझ रहे देशवासियों के लिए अब तक कोई भारतीय खिलाड़ी आगे नहीं आया है, ऑस्ट्रेलियन खिलाड़ी ने मिसाल पेश की है। इस मुद्दे पर फिल्ममेकर विनोद कापड़ी ने लिखा है कि “उम्मीद है कि पैट कमिंस की इस पहल से भारतीय क्रिकेटरों की आ'- त्मा जगेगी” निश्चित तौर पर जिस तरह से भारत के लोग अपने क्रिकेटरों से प्यार करते हैं, वैसे में किसी भी क्रिकेटर का इस दुख की घड़ी में आगे न आना देशवासियों के लिए दुखद है। कमिंस ने सभी खिलाड़ियों से  इस दौर में आगे आने की अपील की है क्यांेकि भारत इस समय कोरोना  की दूसरी लहर से जू'- झ रहा है। कमिंस नेे कहा कि भारत इस समय कोरोना सं'- क्रमित होने वालों की संख्या में दुनिया भर में सबसे ज्यादा है। इतने सारे लोगों के बीमार होने का मुझे काफी दुख है। कमिंस ने यह भी कहा कि उन्हें बताया गया है कि इस भ'- यानक म'- हामारी के बावजूद भारत म

कोरोना- 10 दिन पहले ही केंद्र किया गया था अ'- लर्ट, NITI आयोग सदस्य ने की थी गुजारिश

Image
ऑक्सीजन का प्रबंध कर लीजिए, क्योंकि 20 अप्रैल तक दैनिक सं'- क्रमणों की संख्या तीन लाख और अप्रैल के अंत तक पांच लाख होगी।” यह बात 10 दिन पहले नीति आयोग के सदस्य डॉ वीके पॉल ने कही थी, जो कि उच्चाधिकार प्राप्त अधिकारियों के समूह के मुखिया हैं। डॉ पाल ने स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के अधिकारियों के समक्ष चेतावनी भी दी थी कि कोविड का रूप और भ'- यंकर होने वाला है और देश को ज्यादा मात्रा में मेडिकल ऑक्सीजन की ज़रूरत पड़ेगी। उन्होंने कहा था कि दैनिक सं'- क्रमणों की संख्या छह लाख भी जा सकती है। ऐसी असाधारण स्थिति में प्लान बी के तहत असाधारण उपाय करने होंगे। एक बैठक के दौरान कहा गया कि कोविड के कारण बदतर स्थिति और उसके कारण पैदा हुई ऑक्सीजन की मांग की जानकारी एक अन्य उच्चाधिकार प्राप्त समुह (ग्रुप-2) को दी जाए। ऑक्सीजन और चिकित्सकीय उपकरणों की व्यवस्था का जिम्मा इसी समूह के पास है। इसके मुखिया औद्योगिक विकास विभाग के सचिव डॉ गुरुप्रसाद महापात्र हैं। सूत्रों का कहना है कि अप्रैल के पहले पखवाड़े में हुई अधिकारियों के समूह की बैठक में ही डॉ पॉल ने सरकार से अनुरोध किया था कि वह