12000 करोड रुपए की रेमंड कंपनी के मालिक का छलका दर्द बोले, जीते जी कभी न दें अपने बच्चों को सं'पत्ति…

दोस्तों रेमंड ग्रुप के संस्थापक विजयपत सिंघानिया किसी पहचान के मोहताज नही है| एक समय था जब हर तरफ इन्ही के चर्चे हुआ करते थे| इन्होने रेमंड कंपनी की शुरुआत 1925 में की थी| इन्होने अपनी मेहनत से रेमंड की शो रूम देश ही नही विदेशो में भी खोले है| 2006 में विजयपत सिंघानिया को पद्मा भूषण अवॉर्ड से भी नवाज़ा गया| आपको बता दे एक बार फिर विजयपत सिंघानिया अपने बयानों की वजह से चर्चा में है|

विजयपत सिंघानिया का कहना है कि कभी भी जीते जी अपने बच्चों को संपत्ति नहीं देना चाहिए। इतना ही नहीं बल्कि सिंघानिया का कहना है कि उन्होंने अपने जीवन में सबसे बड़े सबक सीखे हैं। दरअसल रेमंड समूह के पूर्व चेयरमैन ने अपनी आत्मकथा ‘एन इनकंप्लीट लाइफ’ लॉन्च की है जिसमें उन्होंने अपने जीवन से जुड़ी कई सारी बातों का खु'- लासा किया| विजयपत सिंघानिया ने परिवार के सदस्यों के बीच संपत्ति को लेकर हुई अनबन के बारे में भी खुलासा किया है। इसके अलावा उन्होंने अपने बचपन के दिनों से जुड़ी बातें भी शेयर की है।अपना अनुभव शेयर करते हुए विजयपत सिंघानिया ने कहा कि, “अनुभव से मैंने सबसे बड़ा सबक सीखा वह यह है कि अपने जीवित रहते अपनी संपत्ति को बच्चों को देते समय सावधानी बरतनी चाहिए।

आपकी संपत्ति आपके बच्चों को मिलनी चाहिए लेकिन ये आपकी मौ*- त के बाद ही देनी चाहिए। मैं नहीं चाहता कि किसी माता-पिता को वो झेलना पड़े जिससे मैं हर दिन गुजरता हूं।” इसके अलावा भी विजयपत सिंघानिया ने कहा कि, “मुझे मेरे कार्यालय जाने से रोक दिया गया जहां महत्वपूर्ण दस्तावेज पड़े हुए हैं और अन्य सामान जो कि मेरा है। इतना ही नहीं बल्कि मुंबई और लंदन में मुझे अपनी कार छोड़नी पड़ी और मैं अपने सचिव से भी संपर्क नहीं कर सकता। ऐसा लगता है कि रेमंड के कर्मचारियों को कड़े आदेश दिए गए हैं कि वह मुझसे बात नहीं करें और मेरे कार्यालय में ना आए।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, देश के सबसे बड़े उद्योगपति में शुमार विजयपत सिंघानिया कभी 12 हजार करोड रुपए की कंपनी रेमंड के मालिक हुआ करते थे। लेकिन आज ऐसा समय आ चुका है कि सिंघानिया पाई-पाई के लिए मोहताज है। एक समय पर विजयपत सिंघानिया का बोलबाला था और वह मुकेश अंबानी के एंटीलिया आलीशान घर से भी ज्यादा ऊंचे मकान ‘जेके हाउस’ में रहा करते थे। लेकिन अब कहा जा रहा है कि विजयपत सिंघानिया से उनके बेटे ने गाड़ी और ड्राइवर तक भी छीन लिया है। रिपोर्ट की मानें तो इन दिनों विजयपत सिंघानिया दक्षिण मुंबई में किराए के कमरे में रह रहे हैं।बता दें, साल 2015 में विजयपत सिंघानिया ने अपने कंपनी के सारे शेयर बेटे गौतम सिंघानिया को दे दिए थे। लेकिन बेटे के नाम संपत्ति होते ही उसने सारी संपत्ति ह'- ड़प ली और पिता आज दर दर की ठोकर खाने पर मजबूर है। 

Popular posts from this blog

अस्त व्यस्त कपड़ों में बिना मेकअप के सड़क पर उतरी प्रियंका चोपड़ा, मां बनने के बाद बदल गया लुक

15 अगस्‍त से शुरू हो रही BSNL की स्‍वदेशी 4G, 5G सर्विस, जानें पूरी डिटेल