2200 पुलिसकर्मियों पर भारी पड़े किसान: हाथ में तिरंगा लेकर दौड़ाया, CM खट्टर का दौरा हुआ र'द्द

बीजेपी नेताओं के ख़िलाफ़ किसानों का ग़ुस्सा बढ़ता जा रहा है। अब किसानों के इस गुस्से का सामना हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को करना पड़ा। किसानों ने करनाल ज़िले के कैमला गांव में सीएम की महापंचायत का वि'- रोध किया। जिसके चलते सीएम खट्टर को अपना कार्यक्रम रद्द करना पड़ा। दरअसल, कैमला गांव में बीजेपी की तरफ़ से किसान महापंचायत रैली बुलाई गई थी। इस रैली को सीएम खट्टर संबोधित करना था। लेकिन बीजेपी की इस रैली से पहले ही वहां हज़ारों की तादाद में किसान इकट्ठा हो गए। यह किसान बीजेपी की रैली का वि'- रोध कर रहे थे।

किसानों के वि'- रोध को दिखते हुए पुलिस द्वारा ला'- ठीचार्ज और आसू गैस के  गए। पुलिस ने किसानों पर ठंडे पानी की बौछार भी की। लेकिन आसू गैस  और पानी की बौछार किसानों के हौसले को तोड़ने में नाकाम रही। किसानों ने पुलिस का डट कर सामना किया और तमाम सुरक्षा घेरों को तोड़ते हुए कार्यक्रम स्थल तक पहुंचकर अपना वि'- रोध दर्ज किया। किसानों ने पहले ही ये स्पष्ट कर दिया था कि वो मुख्यमंत्री का कार्यक्रम नहीं होने देंगे। किसानों ने कैमला गांव सहित इलाके के कई गांवों में सीएम की एंट्री बै'- न के पोस्टर भी लगाए थे।

 किसानों के इसी विरोध को देखते हुए कार्यक्रम से पहले कैमला गांव में सुरक्षा के पुख़्ता इंतेज़ाम किए गए थे। अमर उजाला में छपी ख़बर के मुताबिक़, कार्यक्रम की सुरक्षा की कमान एडीजीपी अकील अहमद को सौंपी गई थी। एडीजीपी व आईजी करनाल भारती अरोड़ा के अलावा यहां सुरक्षा व्यवस्था में पांच पुलिस अधीक्षक, 19 डीएसपी और 2200 पुलिस कर्मियों को तैनात किया गया था। इसमें इंस्पेक्टर से लेकर कांस्टेबल तक 750 पुलिसकर्मी करनाल जिले के थे, शेष पानीपत, नूंह, रोहतक, हिसार, यमुनानगर से बुलाए गए थे।

Popular posts from this blog

बाबा रामदेव की नई नौटंकी हाथी पर चढ़कर योगा कर रहे थे, गि'- रे नीचे कराई फजीहत - वीडियो वायरल

लाईव डिबेट में संबित पात्रा ने फिर करायी अपनी बेइज्जती अभिनेत्री ने कहा हराम*- खोर: देखे वीडियो

अनुष्का शर्मा पर सुनील गावस्कर के कॉमेंट पर कंगना रनौत का आया बयान कहा- 'हराम*- खोर' बयान...