एमपी पुलिस ने दाढ़ी देखी और मुस्लिम समझ वकील को पीटा अब धमका रही

दावा किया गया है कि उस वकील ने कथित तौर पर उनकी पिटाई करने वाले पुलिसकर्मियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई करने की शिकायत दे रखी है और उसी संदर्भ में कुछ दूसरे पुलिस अफ़सर उनका बयान लेने के लिए आए थे लेकिन उन्हें केस वापस लेने के लिए मनाते रहे। इसको लेकर ‘द वायर’ ने इस वकील से बातचीत और उस ऑडियो के आधार पर एक स्टोरी प्रकाशित की है।
यह मामला मध्य प्रदेश के बेतुल का है। ‘द वायर’ के अनुसार वहाँ के एक वकील दीपक बुंदेले ने पुलिस पर आरोप लगाया है। उनका कहना है कि 23 मार्च को उनको पुलिस ने तब पीटा था जब वह हॉस्पिटल में इलाज के लिए जा रहे थे। 
दीपक बुंदेले कहते हैं, ‘तब देश भर में लॉकडाउन की घोषणा नहीं हुई थी लेकिन बेतुल में धारा 144 लागू की गई थी। मैं पिछले 15 वर्षों से मधुमेह और रक्तचाप का गंभीर रोगी हूँ। चूँकि मुझे कुछ ठीक नहीं लग रहा था, मैंने अस्पताल का दौरा करने और कुछ दवाएँ लेने का फ़ैसला किया। लेकिन मुझे पुलिस द्वारा बीच में ही रोक दिया गया।’

उनका आरोप है कि उन्होंने जब स्थिति बतानी चाही तो एक पुलिस कर्मी ने तमाचा मार दिया, बिना कुछ सुने ही। वह कहते हैं, ‘जब मैंने संवैधानिक दायरे में पुलिस कार्रवाई का सामना करने बात कही तो पुलिस वाले आग बबूला हो गए और मुझे व संविधान को गालियाँ देते हुए पीटना शुरू कर दिया। जब मैंने बताया कि मैं एक वकील हूँ और ऐसे नहीं छोड़ूँगा तब वे रुके।’

दीपक का आरोप है कि पुलिस उनपर शिकायत वापस लेने के लिए काफी दबाव बना रही है. दीपक कहते हैं,
पहले तो हमें कहा गया कि दाढ़ी की वजह से पिटाई हुई, लेकिन मैं कई सालों से दाढ़ी रखता आ रहा हूं. अगर मैं मुसलमान भी होता तो क्या किसी पुलिस वाले को मुझे पीटने का हक मिल जाता? 
अब जब मैं शिकायत वापस नहीं ले रहा हूं, तो हमें धमकाया जा रहा है कि देख लेंगे तुम कैसे कोर्ट में प्रैक्टिस करते हो, मेरा छोटा भाई भी वकील है, उसे प्रैक्टिस करने देने को लेकर भी धमकी मिल रही है|

Popular posts from this blog

दूरदर्शन चैनल की एंकर सलमा सुल्ताना का ये 1984 का विडियो आज के एंकरों के लिए सबक और मिशाल

रजत शर्मा ने इस बार जमकर की तबलीगी जमात की तारीफ तो लोगों ने दिए ऐसे रिएक्शन

कोरोना संकट में भी नहीं मान रहे भाजपा नेता, अब मिर्जापुर के BJP नेता का वीडियो वायरल? देखें