रैपिड टेस्ट किट की ख़रीद में बड़ा घोटाला राहुल बोले- देश माफ़ नहीं करेगा


कोरोना संकट के बीच रैपिड टेस्ट किट की ख़रीद को लेकर बड़ा घोटाला सामने आया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़, एक कंपनी ने 245 रुपए की किट को भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) को 600 रुपए प्रति के किट के हिसाब से बेच डाला।

इस मामले को लेकर कांग्रेस ने केंद्र की मोदी सरकार पर सवाल खड़े किए हैं और मांग की है कि संकट के समय में मुनाफा कमाने वाली इस कंपनी के ख़िलाफ़ कार्रवाई की जाए। कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने कहा, “परीक्षण किटों के आयात पर अराजकता चल रही है और सरकार को बताना चाहिए कि उनके द्वारा क्या कार्रवाई की गई है।

दरअसल, मुनाफा कमाने वाली इस कंपनी पर आरोप है कि उसने चीन से किट को 245 रुपए में आयात किया। जिसके बाद उसने आईसीएमआर को 600 रुपये प्रति किट के हिसाब से पांच लाख किट की आपूर्ति की। जिससे कंपनी को 18 करोड़ रुपये से ज़्यादा का मुनाफा हुआ।
जिसके बाद ये मामला अदालत भी पहुंचा। जहां कंपनी को इस मुनाफाखोरी के लिए फटकार लगाई गई। जिसके बाद कंपनी 400 रुपये प्रति किट की दर से आपूर्ति करने के लिए तैयार हो गई।

Popular posts from this blog

दूरदर्शन चैनल की एंकर सलमा सुल्ताना का ये 1984 का विडियो आज के एंकरों के लिए सबक और मिशाल

रजत शर्मा ने इस बार जमकर की तबलीगी जमात की तारीफ तो लोगों ने दिए ऐसे रिएक्शन

कोरोना संकट में भी नहीं मान रहे भाजपा नेता, अब मिर्जापुर के BJP नेता का वीडियो वायरल? देखें